Ipc act pdf in hindi. Ipc pdf 2023-01-04

Ipc act pdf in hindi Rating: 8,9/10 1302 reviews

In "Lord of the Flies," William Golding presents a group of young boys who are stranded on an uninhabited island after their plane crashes. The boys are forced to fend for themselves and create their own society, but as the novel progresses, it becomes clear that the boys' attempts at creating order break down as they succumb to their primal instincts and the influence of the "beast," an entity that represents the primal, animalistic side of human nature.

One of the main characters in "Lord of the Flies" is Ralph, the protagonist and leader of the group. At the beginning of the novel, Ralph is chosen as the leader because of his charisma and ability to think logically. He is level-headed and tries to maintain order on the island, but as the novel progresses, his leadership is challenged by Jack, the antagonist and leader of the hunters. Ralph is ultimately unable to maintain control over the group, and his inability to keep the boys from descending into savagery reflects the theme of the inherent dangers of power and the corrupting influence it can have on individuals.

Another important character in "Lord of the Flies" is Piggy, Ralph's loyal friend and advisor. Piggy is physically weaker than the other boys and is often bullied and ostracized because of his glasses, which he uses to start fires. Despite this, Piggy is intelligent and has a strong sense of right and wrong. He advises Ralph on important decisions and tries to keep the boys focused on their rescue, but his efforts are often overshadowed by the more aggressive and dominant personalities of Ralph and Jack. Piggy's death at the hands of the other boys is a turning point in the novel and represents the complete breakdown of order and the loss of innocence among the group.

Another significant character in the novel is Simon, a quiet and introspective boy who is deeply in tune with the natural world around him. Simon is the only one who fully understands the true nature of the "beast" and tries to tell the other boys, but they do not listen. Simon's insights and wisdom are often overlooked by the other boys, and his death at the hands of the group is a symbol of their descent into savagery and the loss of reason.

In conclusion, the characters in "Lord of the Flies" represent different aspects of human nature and the dangers of power and the loss of civilization. Ralph represents the rational, civilized side of humanity, while Jack represents the primal, animalistic side. Piggy represents the voice of reason and Simon represents the natural world and inner wisdom. Together, these characters illustrate the theme of the novel: the inherent dangers of power and the corrupting influence it can have on individuals.

Indian Penal Code (IPC) 1860

ipc act pdf in hindi

कई अपराधों में से एक के दोषी व्यक्ति के लिए दण्ड जबकि निर्णय में यह कथित है कि यह संदेह है कि वह किस अपराध का दोषी है - उन सब मामलों में, जिनमें यह निर्णय दिया जाता है। कि कोई व्यक्ति उस निर्णय में विनिर्दिष्ट कई अपराधों में से एक अपराध का दोषी है , किन्तु यह संदेहपूर्ण है कि वह उन अपराधों में से किस अपराध का दोषी है , यदि वही दण्ड सब अपराधों के लिए उपबंधित नहीं है तो वह अपराधी उस अपराध के लिए दंडित किया जाएगा , जिसके लिए कम से कम दण्ड उपबंधित किया गया है। 73. CHAPTER XXA OF CRUELTY BY HUSBAND OR RELATIVES OF HUSBAND 498A. Making or using documents resembling currency-notes or bank-notes. Illustrations a A Collector exercising jurisdiction in a suit under Act 10 of 1859, is a Judge. The next of hindi act in indian ipc pdf format for ipc act of undue influence or threatening any offence.

Next

कानूनी धारा सूची 1 to 511

ipc act pdf in hindi

लोक साधारण द्वारा या दस से अधिक व्यक्तियों द्वारा अपराध किए जाने का दुष्प्रेरण - जो कोई लोक साधारण द्वारा या दस से अधिक व्यक्तियों की किसी भी संख्या या वर्ग द्वारा किसी अपराध के किए जाने का दुष्प्रेरण करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से , जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी , या जुर्माने से , या दोनों से , दण्डित किया जाएगा। दृष्टांत - क, एक लोक स्थान में एक प्लेकार्ड चिपकाता है, जिसमें एक पंथ को जिसमें दस से अधिक सदस्य हैं, एक विरोधी पंथ के सदस्यों पर, जबकि वे जुलूस निकालने में लगे हुए हों, आक्रमण करने के प्रयोजन से, किसी निश्चित समय और स्थान पर मिलने के लिए उकसाया गया है। क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है। 118. Merits of case decided in Court or conduct of witnesses and others concerned. Governing various offences have ipc act list hindi pdf format as the eighth schedule containing defamatory matter, any state also. Words referring to acts include illegal omissions. Dominions as part of the law of that Dominion unless it is extended thereto by a law of the Legislature of the Dominion.

Next

कानूनी धारा लिस्ट PDF Download

ipc act pdf in hindi

The basic outline of the code is given in the table below: IPC UPSC Notes:- Download PDF Here Crimes against the Human Body. IPC Sections List 1 to 511 PDF IPC Sections List PDF Download for free using the direct download link given at the bottom of this article. Illustrations A writing expressing the terms of a contract, which may be used as evidence of the contract, is a document. अध्याय XVI — मानव शरीर को प्रभावित करने वाले अपराध एक उपयुक्त मामले में, मानव शरीर को प्रभावित करने वाले अपराधों के लिए दंड संहिता के तहत किसी पर भी अतिरिक्त आरोप लगाए जा सकते हैं। दंड संहिता का अध्याय XVI धारा 299 से 311 मानव शरीर को प्रभावित करने वाले कृत्यों का अपराधीकरण करता है यानी वे जो मौत और शारीरिक नुकसान का कारण बनते हैं, जिसमें गंभीर नुकसान, हमला, यौन अपराध और गलत कारावास शामिल हैं। ये विधायी प्रावधान सामान्य रूप से व्यक्तियों के खिलाफ हिंसा को कवर करते हैं, और इस प्रकृति के अपराधों को बहुत गंभीर माना जाता है और आमतौर पर भारी सजा होती है। उदाहरण के लिए, स्वेच्छा से चोट पहुंचाने वाले अपराध में 10 साल तक की कैद की सजा के साथ-साथ जुर्माना भी लगाया जाता है। 8. Windows'taki EXE dosyaları gibi herhangi bir APK dosyasını Android'li cihazınıza kopyalayıp, onu kendiniz yükleyebilirsiniz. Provisions of MHC Bill and RPWD Bill are in conflict of eachother.


Next

IPC in English Indian Penal Code 1860 İndir (PC Windows

ipc act pdf in hindi

Conspiracy to commit offences punishable by section 121. पुरुष , स्त्री - "पुरुष" शब्द किसी भी आयु के मानव नर का ध्योत्तक है; "स्त्री" शब्द किसी भी आयु की मानव नारी का द्योत्तक है। 11. Fight Crime and Win. If कानूनी धारा लिस्ट IPC Sections List is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost. It is a comprehensive code intended to cover all substantive aspects of criminal law.

Next

भारतीय दंड संहिता 1860 PDF

ipc act pdf in hindi

M öğrencilerine ve öğretmenlerine iyi bir referans. Justice of the Peace or other officer holding an enquiry in open Court preliminary to a trial in a Court of Justice, is a Court within the meaning of the above section. A and B administer the poison according to the agreement with intent to murder Z. Harbouring persons hired for an unlawful assembly. There is no specific provision in Indian law that specifically deals with fake news. A has committed murder. Both A and B are guilty of the murder of Z.

Next

Indian Penal Code in Hindi, IPC in Hindi PDF, IPC Section List

ipc act pdf in hindi

Of Currency-Notes and Bank-Notes SECTIONS 489A currency-notes or bank-notes. के 76 से 106 खंड इन बचावों को कवर करते हैं। कानून कुछ सुरक्षा प्रदान करता है जो किसी व्यक्ति को आपराधिक दायित्व से बचाता है। ये बचाव इस आधार पर आधारित हैं कि यद्यपि व्यक्ति ने अपराध किया है, उसे उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अपराध के आयोग के समय, या तो प्रचलित परिस्थितियां ऐसी थीं कि व्यक्ति का कार्य उचित था या उसकी हालत ऐसी थी कि वह अपराध के लिए अपेक्षित पुरुष दोषी इरादे नहीं बना सकता था। बचाव को आम तौर पर दो प्रमुखों के अंतर्गत वर्गीकृत किया जाता है- न्यायसंगत और क्षम्य। इस प्रकार, एक गलत करने के लिए, किसी व्यक्ति को इसके लिए कोई औचित्य या बहाना किए बिना एक गलत कार्य करने के लिए जिम्मेदार होना चाहिए। 2. विधिपूर्ण कार्य करने में दुर्घटना - कोई बात अपराध नहीं है, जो दुर्घटना या दुर्भाग्य से और किसी आपराधिक आशय या ज्ञान के बिना विधिपूर्ण प्रकार से विधिपूर्ण साधनों द्वारा और उचित सतर्कता और सावधानी के साथ विधिपूर्ण कार्य करने में हो जाती है। दृष्टांत - क कुल्हाड़ी से काम कर रहा है; कुल्हाड़ी का फल उसमें से निकल कर उछल जाता है और निकट खड़ा हुआ व्यक्ति उससे मारा जाता है। यहां यदि क की ओर से उचित सावधानी का कोई अभाव नहीं था तो उसका कार्य माफी योग्य है और अपराध नहीं है। 81. किसी व्यक्ति के फायदे के लिए सम्मति से सदभावपूर्वक किया गया कार्य जिससे मृत्यु कारित करने का आशय नहीं है - कोई बात, जो मृत्यु कारित करने के आशय से न की गई हो , किसी ऐसी अपहानि के कारण नहीं है , जो उस बात से किसी ऐसे व्यक्ति को , जिसके फायदे के लिए वह बात सद्भावपूर्वक की जाए और जिसने उस अपहानि को सहने , या उस अपहानि की जोखिम उठाने के लिए चाहे अभिव्यक्त चाहे विवक्षित सम्मति दे दी हो , कारित हो या कारित करने का कर्ता का आशय हो या कारित होने की संभाव्यता कर्ता को ज्ञात है दृष्टांत - क, एक शल्य चिकित्सक यह जानते हुए कि एक विशेष शल्यकर्म से य को, जो वेदनापूर्ण व्याधि से ग्रस्त है, मृत्यु कारित होने की संभाव्यता है, किन्तु य की मृत्युकारित करने का आशय न रखते हुए और सद्भावनापूर्वक य के फायदे के आशय से, य की सम्मति से, य पर वह शल्यकर्म करता है। क ने कोई अपराध नहीं कया है। 89. Z dies of hunger.

Next

Ipc pdf

ipc act pdf in hindi

Co-operation by doing one of several acts constituting an offence. Vehicles must not be parked at any time in a zone marked by signs of this type. Specialist advice should be sought about your specific circumstances. शरीर तथा संपत्ति की प्राइवेट प्रतिरक्षा का अधिकार - धारा 99 में अन्तर्विष्ट निबंधनों के अध्यधीन , हर व्यक्ति को अधिकार है कि वह - पहला - मानव शरीर पर प्रभाव डालने वाले किसी अपराध के विरुद्ध अपने शरीर और किसी अन्य व्यक्ति के शरीर की प्रतिरक्षा करें; दूसरा - किसी ऐसे कार्य के विरुद्ध, जो चोरी, लूट, रिष्टि या आपराधिक अतिचार की परिभाषा में आने वाला अपराध है, या जो चोरी, लूट, रिष्टि या आपराधिक अतिचार करने का प्रयत्न है अपनी या किसी अन्य व्यक्ति की, चाहे जंगम, चाहे स्थावर संपत्ति की प्रतिरक्षा करे। 98. दुष्प्रेरित कार्य से कारित उस प्रभाव के लिए दुष्प्रेरक का दायित्व जो दुष्प्रेरक द्वारा आशयित से भिन्न हो - जबकि कार्य का दुष्प्रेरण दुष्प्रेरक द्वारा किसी विशिष्ट प्रभाव को कारित करने के आशय से किया जाता है और दुष्प्रेरण के परिणामस्वरूप जिस कार्य के लिए दुष्प्रेरक दायित्व के अधीन है, वह कार्य दुष्प्रेरक के द्वारा आशयित प्रभाव से भिन्न प्रभाव कारित करता है तब दुष्प्रेरक कारित प्रभाव के लिए उसी प्रकार और उसी विस्तार तक दायित्व के अधीन है, मानो उसने उस कार्य का दुष्प्रेरण उसी प्रभाव को कारित करने के आशय से किया हो परन्तु यह तब जबकि वह यह जानता था कि दुष्प्रेरित कार्य से यह प्रभाव कारित होना संभाव्य है। दृष्टांत - य को घोर उपहति करने के लिए ख को क उकसाता है। ख उस उकसाहट के परिणामस्वरूप य को घोर उपहति कारित करता है। परिणामतः य की मृत्यु हो जाती है। यहां, यदि क यह जानता था कि दुष्प्रेरित घोर उपहति से मृत्यु कारित होना संभाव्य है, तो क हत्या के लिए उपबंधित दण्ड से दण्डनीय है। 114. When culpable homicide is not murder. सम्मति के बिना किसी व्यक्ति के फायदे के लिए सद्भावपूर्वक किया गया कार्य - कोई बात, जो किसी व्यक्ति के फायदे के लिए सद्भावपूर्वक यद्यपि उसकी सम्मति के बिना , की गई है , ऐसी किसी अपहानि के कारण , जो उस बात से उस व्यक्ति को कारित हो जाए , अपराध नहीं है , यदि परिस्थितियां ऐसी हों कि उस व्यक्ति के लिए यह असंभव हो कि वह अपनी सम्मति प्रकट करे या वह व्यक्ति सम्मति देने के लिए असमर्थ हो और उसका कोई संरक्षक या उसका विधिपूर्ण भारसाधक कोई दूसरा व्यक्ति न हो जिससे ऐसे समय पर सम्मति अभिप्राप्त करना संभव हो कि वह बात फायदे के साथ की जा सके । परन्तुक - परन्तु - पहला - इस अपवाद का विस्तार साशय मृत्युकारित करने या मृत्युकारित करने का प्रयत्न करने पर न होगा; दूसरा - इस अपवाद का विस्तार मृत्यु या घोर उपहति के निवारण के या किसी घोर रोग या अंगशैथिल्य से मुक्त करने के प्रयोजन से भिन्न किसी प्रयोजन के लिए किसी ऐसी बात के करने पर न होगा, जिसे करने वाला व्यक्ति जानता हो कि उससे मृत्यु कारित होना संभाव्य है; तीसरा - इस अपवाद का विस्तार मृत्यु या उपहति के निवारण के प्रयोजन से भिन्न किसी प्रयोजन के लिए स्वेच्छया उपहति कारित करने या उपहति कारित करने का प्रयत्न करने पर न होगा; चौथा - इस अपवाद का विस्तार किसी ऐसे अपराध के दुष्प्रेरण पर न होगा जिस अपराध के किए जाने पर इसका विस्तार नहीं है। दृष्टांत - क य अपने घोड़े से गिर गया और मूर्छित हो गया है। क, एक शल्य चिकित्सक का यह विचार है कि य के कपाल पर शल्य क्रिया आवश्यक है। क, य की मृत्यु करने का आशय न रखते हुए, किन्तु सद्भावपूर्वक य के फायदे के लिए य के स्वयं किसी निर्णय पर पहुंचने की शक्ति प्राप्त करने से पूर्व ही कपाल पर शल्यक्रिया करता है। क ने कोई अपराध नहीं किया। ख य को एक बाघ उठा ले जाता है। यह जानते हुए कि संभाव्य है कि गोली लगने से य मर जाए, किन्तु य का वध करने का आशय न रखते हुए और सद्भावपूर्वक य के फायदे के आशय से क उस बाघ पर गोली चलाता है। क की गोली से य को मृत्युकारक घाव हो जाता है। क ने कोई अपराध नहीं किया। ग क, एक शल्य चिकित्सक, यह देखता है कि एक शिशु की ऐसी दुर्घटना हो गई है जिसका प्राणांतक साबित होना सम्भाव्य है, यदि शल्यकर्म तुरन्त न कर दिया जाए। इतना समय नहीं है कि उस शिशु के संरक्षक से आवेदन किया जा सके। क, सद्भावपूर्वक शिशु के फायदे का आशय रखते हुए शिशु के अन्यथा अनुनय करने पर भी शल्यकर्म करता है। क ने कोई अपराध नहीं किया। घ एक शिशु य के साथ क एक जलते हुए गृह में है। गृह के नीचे लोग एक कम्बल तान लेते हैं। क उस शिशु को यह जानते हुए कि सम्भाव्य है कि गिरने से वह शिशु मर जाए किन्तु उस शिशु को मार डालने का आशय न रखते हुए और सद्भावपूर्वक उस शिशु के फायदे के आशय से गृह-छत पर से नीचे गिरा देता है। यहां, यदि गिरने से वह शिशु मर भी जाता है, तो भी क ने कोई अपराध नहीं किया। स्पष्टीकरण - केवल धन संबंधी फायदा वह फायदा नहीं है, जो धारा 88, 89 और 92 के भीतर आता है। 93.


Next

All IPC Section In Hindi Pdf / दंड संहिता PDF Download

ipc act pdf in hindi

Publication of reports of proceedings of Courts. कारावास से दण्डनीय अपराध का दुष्प्रेरण - यदि अपराध न किया जाए - जो कोई कारावास से दण्डनीय अपराध का दुष्प्रेरण करेगा यदि, वह अपराध उस दुष्प्रेरण के परिणामस्वरूप न किया जाए और ऐसे दुष्प्रेरण के दण्ड के लिए कोई अभिव्यक्त उपबंध इस संहिता में नहीं किया गया है ; तो वह उस अपराध के लिए उपबंधित किसी भांति के कारावास से ऐसी अवधि के लिए , जो उस अपराध के लिए उपबंधित दीर्घतम अवधि के एक-चौथाई भाग तक की हो सकेगी , या ऐसे जुर्माने से , जो उस अपराध के लिए उपबंधित है , या दोनों से , दण्डित किया जाएगा। यदि दुष्प्रेरक या दुष्प्रेरित व्यक्ति ऐसा लोक-सेवक है , जिसका कर्तव्य अपराध निवारित करना हो - और यदि दुष्प्रेरक या दुष्प्रेरित व्यक्ति ऐसा लोक-सेवक हो, जिसका कर्तव्य ऐसे अपराध के किए जाने को निवारित करना हो, तो वह दुष्प्रेरक उस अपराध के लिए उपबंधित किसी भांति के कारावास से ऐसी अवधि के लिए जो उस अपराध के लिए उपबंधित दीर्घतम अवधि के आधे भाग तक की हो सकेगी, या ऐसे जुर्माने से, जो उस अपराध के लिए उपबंधित है, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा। दृष्टांत - क ख को, जो एक लोक-सेवक है, ख के पदीय कृत्यों के प्रयोग में कअपने प्रति कुछ अनुग्रह दिखाने के लिए इनाम के रूप में रिश्वत की प्रस्थापना करता है। ख उस रिश्वत को प्रतिगृहीत करने से इंकार कर देता है। क इस धारा के अधीन दण्डनीय है। ख मिथ्या साक्ष्य देने के लिए ख को क उकसाता है। यहां, यदि ख मिथ्या साक्ष्य न दे, तो भी क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है, और वह तदनुसार दण्डनीय है। ग क, एक पुलिस ऑफिसर, जिसका कर्तव्य लूट को निवारित करना है, लूट किए जाने का दुष्प्रेरण करता है। यहां, यद्यपि वह लूट नहीं की जाती, क उस अपराध के लिए उपबंधित कारावास की दीर्घतम अवधि के आधे से, और जुर्माने से भी, दण्डनीय है। घ क द्वारा, जो एक पुलिस ऑफिसर है, और जिसका कर्त्तव्य लूट को निवारित करना है, उस अपराध के किए जाने का दुष्प्रेरण ख करता है, यहां यद्यपि वह लूट न की जाए, ख लूट के अपराध के लिए उपबंधित कारावास की दीर्घतम अवधि के आधे से, और जुर्माने से भी, दण्डनीय है। 117. अध्याय चार में सामान्य अपवादों के तहत बचाव को मान्यता देता है। आई. Effect caused partly by act and partly by omission. Public servant disobeying direction under law.

Next