Hindu act in hindi. Indian Removal Act 2022-12-25

Hindu act in hindi Rating: 7,7/10 650 reviews

The economic causes of the American Civil War (1861-1865) were rooted in the differences between the Northern and Southern states. The North, with its industrial and urban centers, had a diversified economy that was driven by manufacturing, trade, and finance. The South, on the other hand, was primarily an agricultural region that relied on slave labor to produce cash crops such as cotton, tobacco, and sugar.

One of the main economic differences between the North and South was the system of labor. The North had a more diverse workforce, with a mix of wage laborers, small farmers, and industrial workers. The South, on the other hand, relied heavily on slave labor to work the fields and plantations. Slaves were considered property, and their value was often measured in terms of how much work they could do.

Another significant economic difference between the North and South was the level of investment in infrastructure. The North had a well-developed system of roads, canals, and railroads, which facilitated trade and commerce. The South, however, had a much less developed infrastructure, which made it difficult to transport goods to market.

The economic differences between the North and South were not just a result of different economic systems, but also reflected deeper cultural and political differences. The North was more industrialized and urbanized, and was generally more supportive of federal government intervention in the economy. The South, on the other hand, was more agrarian and rural, and was generally more skeptical of federal intervention.

The economic differences between the North and South were one of the key factors that led to the Civil War. The North wanted to preserve the Union and end slavery, while the South wanted to maintain its way of life and protect its economic interests. The war ultimately ended with the defeat of the Confederacy and the abolition of slavery, but the economic tensions between the North and South continue to shape American politics and society to this day.

Hindu Marriage Act, 1955: All you need to know!

hindu act in hindi

Mixed Blood Indians: Racial Construction in the Early South. Grounds of Divorce: Hindu Marriage Act Divorce provisions Section 13 of the Hindu Marriage Act provides the grounds for divorce, and they are stated below. . Longmans, Green and Co. It also extends to any other person living outside this territory who is not a Muslim, Christian, Parsi or Jew by religion.

Next

धारा 13A हिन्दू विवाह

hindu act in hindi

Important question answers in Hindi from Constitution. In India, people belonging to different religions and castes live together. Washington Post, November 23, 2017. Who among the following holds office during the pleasure of the President? The parliament amended the act to add section 10A for filing a petition for divorce on mutual consent in the District Court. Original Hindu law does not apply to all the elements and is constrained to revisions and modifications.


Next

Section 2 of Hindu Marriage Act in Hindi & English

hindu act in hindi

Sridharan vs The Presiding Officer on 18 August, 2008 - Madras High Court Mr. There must not be any reasonable justification, and it must be without consent. Custody of Children Child Custody The Divorce Act includes provisions governing custody of children in cases of dissolution or nullity of marriage. Section 5 iii of the Hindu Marriage Act 1955 says that the bridegroom shall attain the age of 21, and the bride attains the age of 18 at the time of marriage. Andrew Jackson sought to renew a policy of political and military action for the removal of the Natives from these lands and worked toward enacting a law for "Indian removal".

Next

Section 23 of Hindu Marriage Act in Hindi & English

hindu act in hindi

Retrieved 18 January 2019. पुनर्विवाह करने वाली कुछ विधवाएं विधवा होने के नाते विरासत प्राप्त न कर सकेंगी -हिन्दू उत्तराधिकार संशोधन अधिनियम, 2005 2005 का अधिनियम सं० 39 की धारा 5 द्वारा 9-9-2005 से लोप किया गया। 25. Retrieved May 12, 2011. विशालतम संविधान- सामान्यतया संविधान का आकार अत्यंत छोटा होता है संविधान में मोटी मोटी बातों का उल्लेख कर दिया जाता है और अन्य बातें अर्थान्वयन के लिए छोड़ दी जाती हैं लेकिन भारत का संविधान इसका अपवाद है भारत के संविधान का आकार ने तो अत्यधिक छोटा रखा गया है और ना ही अत्यधिक बड़ा हमने सभी आवश्यक बातें समाहित करते हुए संतुलित आकार का रखा है। संविधान के मूल प्रारूप में 22 भाग 395 अनुच्छेद तथा 9 अनुसूचियां थी कालांतर में संशोधनों के साथ साथ इनमें अभिवृद्धि होती गई। सर आई जेनिंग्स के शब्दों म 100 Important Facts of Indian Constitution and Polity. Triple Talaq amounting to divorce by a Muslim man cannot be a basis for divorce. Section 41 of the Act permits courts to make interim orders concerning child custody, and the court may award custody to any particular party even after passing a final separation decree. रोग, त्रुटि आदि से निरर्हता न होगी— कोई व्यक्ति किसी सम्पत्ति का उत्तराधिकार पाने से किसी रोग, त्रुटि या अंगविकार के आधार पर या इस नियम में यथा उपबन्धित को छोड़कर किसी भी अन्य आधार पर, चाहे वह कोई क्यों न हो, निरहित न होगा। राजगामित्व 29.

Next

Indian Removal Act

hindu act in hindi

Who is a Hindu? The child born after marriage is legitimate, and the father has to protect and bring up the children. Conjugal rights mean rights originating from a marital bond, and restitution of conjugal rights means the right to stay mutually. According to the law, the marriage between two persons is valid if they get married according to the customary rights and ceremonies. In this article will discuss the nature of Hindu marriages under Indian law. अनुसूची में के वारिसों के बीच उत्तराधिकार का क्रम- अनुसूची में विनिर्दिष्ट वारिसों में के वर्ग 1 में के वारिस एक साथ और अन्य सब वारिसों का अपवर्जन करते हए अंशभागी होंगे; वर्ग 2 में की पहली प्रविष्टि में के वारिसों को दूसरी प्रविष्टि में के वारिसों की अपेक्षा अधिमान प्राप्त होगा; दूसरी प्रविष्टि में के वारिसों को तीसरी प्रविष्टि में के वारिसों की अपेक्षा अधिमान प्राप्त होगा और इसी प्रकार आगे क्रम से अधिमान प्राप्त होगा। 10. The Oxford Encyclopedia of American Social History. Outsourcing Culture: How American Culture has Changed From "We the People" Into a One World Government.

Next

हिन्दू विवाह अधिनियम

hindu act in hindi

तरवाड, तावषि, कुटुम्ब, कवर या इल्लम् की सम्पत्ति में हित का न्यागमन- 1 जबकि कोई हिन्दू जिसे यदि यह अधिनियम पारित न किया गया होता तो मरुमक्कतायम् या नंबुदिरी विधि लागू होती इस अधिनियम के प्रारम्भ के पश्चात् अपनी मृत्यु के समय, यथास्थिति, तरवाड, तावषि या इस्लम् की सम्पत्ति में हित रखते हुए मरे तब सम्पत्ति में उसका हित इस अधिनियम के अधीन, यथास्थिति, वसीयती या निर्वसीयती उत्तराधिकार द्वारा न्यागत होगा, मरुमक्कतायम् या नंबुदिरी विधि के अनुसार नहीं। स्पष्टीकरण- इस उपधारा के प्रयोजनों के लिए तरवाड, तावषि या इल्लम की सम्पत्ति में हिन्दु का हित, यथास्थिति, तरवाड, तावषि या इल्लम् की सम्पत्ति में वह अंश समझा जाएगा जो उसे मिलता यदि उसकी अपनी मृत्यु के अव्यवहित पूर्व, यथास्थिति, तरवाड़, तावषि या इल्लम् के उस समय जीवित सब सदस्यों में उस सम्पत्ति का विभाजन व्यक्तिवार हुआ होता, चाहे वह अपने को लागू मरुमक्कातायम् या नंबुदिरी विधि के अधीन ऐसे विभाजन का दावा करने का हकदार था या नहीं तथा ऐसा अंश उसे बांट में आत्यंकित: दिया गया समझा जाएगा। 2 जबकि कोई हिन्दू, जिसे यदि यह अधिनियम पारित न किया गया होता तो अलियसन्तान विधि लागू होती इस अधिनियम के प्रारम्भ के पश्चात् अपनी मृत्यु के समय, यथास्थिति, कुटुम्ब या कवरू की सम्पत्ति में अविभक्त हित रखते हुए मरे तब सम्पत्ति में उसका अपना हित इस अधिनियम के अधीन, यथास्थिति, वसीयती या निर्वसीयती उत्तराधिकार द्वारा न्यागत होगा, अलियसन्तान विधि के अनुसार नहीं। स्पष्टीकरण—इस उपधारा के प्रयोजनों के लिए कुटुम्ब या कवर की सम्पत्ति में हिन्दू का हित, यथास्थिति, कुटुम्ब या कवरु की सम्पत्ति में अंश समझा जाएगा जो उसे मिलता यदि उसकी अपनी मृत्यु के अव्यवहित पूर्व, यथास्थिति, कुटुम्ब या कवरु के उस समय जीवित सब सदस्यों में उस सम्पत्ति का विभाजन व्यक्तिवार हुआ होता, चाहे वह अलियसन्तान विधि के अधीन ऐसे विभाजन का दावा करने का हकदार था या नहीं तथा ऐसा अंश उसे बांट में आत्यंतिकतः दे दिया गया समझा जाएगा। 3 उपधारा 1 में अन्तर्विष्ट किसी बात के होते हुए भी जबकि इस अधिनियम के प्रारम्भ के पश्चात् कोई स्थानम्दार मरे तब उसके द्वारा धारित स्थानम् सम्पत्ति उस कुटुम्ब के सदस्यों को जिसका वह स्थानम्दार है और स्थानम्दार के वारिसों को ऐसे न्यागत होगी मानो स्थानम् समत्ति स्थानम्दार और उसके उस समय जीवित कुटुम्ब के सब सदस्यों के बीच स्थानम्दार की मृत्यु के अव्यवहित पूर्व व्यक्तिवार तौर पर विभाजित कर दी गई थी और स्थानम्दार के कुटुम्ब के सदस्यों और स्थानम्दार के वारिसों को जो अंश मिले उन्हें वे अपनी पृथक् सम्पत्ति के तौर पर धारित करेंगे। स्पष्टीकरण—इस उपधारा के प्रयोजनों के लिए स्थानम्दार के कुटुम्ब के अंतर्गत उस कुटुम्ब को, चाहे विभक्त हो या अविभक्त, हर वह शाखा आएगी जिसके पुरुष सदस्य यदि अधिनियम पारित न किया गया होता तो किसी रूढ़ि या प्रथा के आधार पर स्थानम्दार के पद पर उत्तरवर्ती होने के हकदार होते। 8. Sadanand Ghose, the court granted divorce to the aggrieved party as her husband had committed an offence of adultery. It is the dearth of kindness from one party that negatively affects the well-being of another person. B, wife of X can approach the court seeking a remedy for divorce without her consent. The President gives his resignation to the a Chief Justice b Parliament c Vice President d Prime Minister Answer: Vice President 3. Explanation - The following persons are Hindus, Buddhists, Jainas or Sikhs by religion, as the case may be : a any child, legitimate or illegitimate, both of whose parents are Hindus, Buddhists, Jainas or Sikhs by religion; b any child, legitimate or illegitimate, one of whose parents is a Hindu, Buddhist, Jaina or Sikh by religion and who is brought up as a member of the tribe, community, group or family to which such parent belongs or belonged; and c any person who is a convert or re-convert to the Hindu, Buddhist, Jaina or Sikh religion. गर्भ स्थित अपत्य का अधिकार— जो अपत्य निर्वसीयत की मृत्यु के समय गर्भ में स्थित था और जो तत्पश्चात् जीवित पैदा हुआ हो उसके निर्वसीयत की विरासत के विषय में वही अधिकार होंगे जो उसके होते यदि वह निर्वसीयत की मृत्यु के पूर्व पैदा हुआ होता; और ऐसी दशा में विरासत निर्वसीयत की मृत्यु की तारीख से उसमें निहित समझी जाएगी। 21.

Next

भारत सरकार अधिनियम, 1935

hindu act in hindi

The law prohibits marriage between people of sapinda relations. भारत का संविधान एक पवित्र दस्तावेज है इसमें विश्व के प्रमुख संविधान ओं की विशेषताएं समाहित हैं यह संविधान निर्मात्री सभा के 2 वर्ष 11 माह 18 दिन के सतत प्रयत्न, अध्ययन विचार, विमर्श चिंतन एवं परिश्रम का निचोड़ है इसे 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण भारत पर लागू किया गया। List of 100+ Landmark Cases of Supreme Court India भारत के संविधान की प्रमुख विशेषताएं निम्नांकित हैं- 1. Conclusion The Hindu Marriage Act governs the provisions related to Hindus. When two persons have a common ancestor, they are called Sapindas. अधिनियम का अध्यारोही प्रभाव- 1 इस अधिनियम में अभिव्यक्तत: उपबन्धित के सिवाय- क हिन्दू विधि का कोई ऐसा शास्त्र-वाक्य, नियम या निर्वचन या उस विधि की भागरूप कोई भी रूढ़ि या प्रथा, जो इस अधिनियम के प्रारम्भ के अव्यवहित पूर्व प्रवृत्त रही हो, ऐसे किसी भी विषय के बारे में, जिसके लिए इस अधिनियम में उपबन्ध किया गया है, प्रभावहीन हो जाएगी ; ख इस अधिनियम के प्रारम्भ के अव्यवहित पूर्व प्रवृत्त किसी भी अन्य विधि का हिन्दुओं को लागू होना वहां तक बन्द हो जाएगा जहां तक कि वह इस अधिनियम में अन्तर्विष्ट उपबन्धों में से किसी से भी असंगत हो। अध्याय 2 निर्वसीयती उत्तराधिकार साधारण 5.

Next

Hindu Marriage Act, 1955

hindu act in hindi

डिग्रियों की संगणना— 1 गोत्रजों या बन्धुओं के बीच उत्तराधिकार क्रम के अवधारण के प्रयोजन के लिए निर्वसीयत से, यथास्थिति, उपरली डिग्री या निचली डिग्री या दोनों के अनुसार के वारिस के सम्बन्ध की संगणना की जाएगी। 2 उपरली डिग्री और निचली डिग्री की संगणना निर्वसीयत को गिनते हुए की जाएगी। 3 हर पीढ़ी एक डिग्री गठित करती है चाहे उपरली चाहे निचली। 14. The fraud case and humiliation faced by people in the name of marriage drifted to the act. One hundred questions and answers from Constitution of India. In Rajani Kannepalli Kanth ed. विवाह- विच्छेद की कार्यवाहियों में प्रत्यर्थी को वैकल्पिक अनुतोष-इस अधिनियम के अधीन किसी कार्यवाही में विवाह-विच्छेद की डिक्री द्वारा विवाह के विघटन के लिए अर्जी पर, उस दशा को छोड़कर जिसमें अर्जी धारा 13 को उपधारा 1 के खण्ड II , VI और VII में वर्णित आधारों पर है, यदि न्यायालय मामले की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए यह न्यायसंगत समझता है तो, वह विवाह-विच्छेद की डिक्री के बजाय न्यायिक पृथक्करण के लिए डिक्री पारित कर सकेगा । 13 ख. According to the Act, stated persons are also known as Hindus.

Next

Hindu Marriage Act 1955 (Hindi) हिन्दू विवाह अधिनियम

hindu act in hindi

The Governor of a State is appointed by the President on the advice of the a Prime Minister b Vice- President c Chief Minister d Chief Justice Answer: Prime Minister List of 100+ Landmark Cases of Supreme Court India 2. Ramkuvar Madanlal Atale vs Madanlal Surajkaran Atale on 21 August, 1974 - Bombay High Court Joginer Singh vs Pushpa on 20 March, 1968 - Punjab-Haryana High Court Anupama Misra vs Bhagaban Misra on 1 November, 1971 - Orissa High Court Man Mohan Kapoor vs Smt. पिता का पिता, पिता की माता। VI. Retrieved March 8, 2017. Native American Voices: A History and Anthology.

Next